Upload SomeThing

सुन पगली पर्सनैलिटी की तो बात ही मत कर,
मैं आज भी जिस गली से निकलता हूं
तो सारी लड़की, एक ही सॉन्ग गाती हैं
बहारों फूल बरसाओ मेरा महबूब आया है


इन्तजार करने वालों को सिर्फ उतना ही मिलता है, जितना कोशिश करने वाले छोड़ देते है।


भगवान मेरे दुश्मनों को मेरी सफ़लता देखने के लिए लम्बी उम्र देना।


ना ही  कद बड़ा होता ? है और ना ही पद बड़ा होता हैं,  बड़ा वो  होता है जो मुसीबत  में एक दूसरे  के लिये हमेशा खड़ा होता हैं ।।


हम किस किस का नाम ले अपनी बर्बादी में,
क्योंकि बहुत से लोग आए थे दुआ देना हमारी शादी में।


मोहब्बत करना है, फिर से करना है, बार बार करना, हजार बार करना है, लेकिन सिर्फ तुम से ही करना है।


मेरे बजूद में काश तू उतर जाए, मैं देखूं आईना
और तू नज़र आये, तू हो सामने और ये वक्त ठहर जाए, और ये जिंदगी तुझे देखते हुए गुज़र जाए।


किसी ने पूछा इतना अच्छा कैसे लिख लेते हो, मैने कहा दिल तोड़ना पड़ता है, लफ्जो को जोड़ने से पहले।


दुनिया मे मोहब्बत आज भी बरकरार है..क्योंकि एकतरफा प्यार अब भी वफादार है।


सांस लेना भी कैसी आदत है
जिए जाना भी क्या रवायत है
कोई आहट नहीं बदन में कहीं
कोई साया नहीं आंखों में
पांव बेहिस हैं, चलते जाते हैं
इक सफर है जो बहता रहता है
कितने बरसों से कितनी सदियों से
जिए जाते हैं, जिए जाते हैं...


Kuch log mere photo dekh Kar
Itna excited ho jate hain
Ke samajh nahi pate
Pehle Like kare ya Save


सिर्फ एक सफ़ाह
पलटकर उसने,
बीती बातों की दुहाई दी है।
फिर वहीं लौट के जाना होगा,
यार ने कैसी
रिहाई दी है।
-गुलज़ार


वो आँखों से अपनी शरारत करते हैं
वो अपनी अदाओं से कयामत करतें हैं।
हमारी निगाहें उनके चहरे से हठतीं नही,
और वो हमारी निगाहों की शिकायत करतें हैं।


अर्ज़ किया है उंगली में अंगूठी और अंगूठी में नगीना,
New year पे तोहफे न दे वो सबसे बड़ा कमीना।


कोई ना दे हमें खुश रहने की दुआ, तो भी कोई बात नहीं वैसे भी हम खुशियाँ रखते नहीं, बाँट दिया करते है।


तेरे बिना टूट कर बिखर जायेंगे,
तुम मिल गए तो गुलशन की तरह खिल जायेंगे,
तुम ना मिले तो जीते जी ही मर जायेंगे,
तुम्हें जो पा लिया तो मर कर भी जी जायेंगे।


हिम्मत को परखने की गुस्ताखी न करना, पहले भी कई तूफानों का रुख मोड़ चुका हूँ।


उनके हौंसले का मुकाबला ही नहीं है कोई
जिनकी कुर्बानी का कर्ज हम पर उधार है
आज हम इसीलिए खुशहाल हैं क्यूंकि
सीमा पे जवान बलिदान को तैयार है….


तू मुझें मिले या ना मिले, मेरी तो बस यही दुआ है कि तुझें ज़माने की हर ख़ुशी मिले।


मेरी किस्मत को परखने की गुस्ताखी मत करना, पहेले भी कई तुफान का रुख मोड़ चुका हूँ…!


मैं भारतवर्ष का हरदम अमिट सम्मान करता हूँ
यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हूँ,
मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की,
तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ।


देश के लिए मर मिटना कुबूल है हमें
अखंड भारत के सपने का जूनून है हमें


जहाँ कदर न हो अपनी वहाँ जाना फ़िज़ूल है,
चाहे किसी का घर हो चाहे किसी का दिल।


ये आसमान इतना क्यों नीला है,
ये पानी इतना क्यों गीला है,
ये फूल इतना क्यों पीला है,
हमे तो लगता है आपका स्क्रू शुरू से ही ढीला है।


उलफत के मारों से न पूछो आलम इंतजार का
पतझड़ सी है जिंदगी और खयाल बहार का।


अगर चाहते हो कि भगवान मिले तो ऐस कर्म करो कि दुआ मिले।


ये मत समझ कि तेरे काबिल नहीं हैं हम,
तड़प रहे हैं वो जिसे हासिल नहीं हैं हम।


आज वो अपनी ज़ुल्फ़ों में फूल लगा कर आई है,
ऐसा लगता है कोई हूर उतर आई है,
किसी ने कहा बहुत खूबसूरत लग रही हो,
मैंने कहा लगता है आज नहा कर आई है।


उन्होंने आज हम पर तिरछी नज़र डाली
तो हम मदहोश हो गए
बाद में पता चला नज़र ही तिरछी है
तो हम बेहोश हो गए।


वो मुझसे जुदा हो गई उसकी जुदाई ने मार डाला है,
मेरा कलेजा उस बेवफा ने फाड़ डाला है,
मैंने अपने सभी अरमानो को गाड़ डाला है,
कभी मेरे घर पे आना मेरी अम्मा ने अचार डाला है।


मेरी मोहब्बत है वो कोई मज़बूरी तो नही,
वो मुझे चाहे या मिल जाये, जरूरी तो नही,
ये कुछ कम है कि बसा है मेरी साँसों में वो,
सामने हो मेरी आँखों के जरूरी तो नही!


जब मैं दरबाजा खोलने गई और मैने दरबाजा खोला,
तब आपके चहरे पर हँसी, आंखों में आँसू और दिल मे बेबसी थी,
तो फिर आपने पहले क्यों नही बताया आपकी उंगली दरबाजे में फंसी थी।


जिंदगी है कल्पनाओं की जंग
कुछ तो करो इसके लिए दबंग
जियो शान से भरो उमंग
लहराओ सबसे दिलों में देश के लिए तिरंग


नज़रो को तेरे प्यार से इंकार नही है, अब मुझे किसी और का इंतज़ार नही है, मैं खामोश हूँ तो वो वजूद है मेरा, लेकिन तुम ये न समझना मुझे तुमसे प्यार नही है।


दिल की धड़कन बन कर दिल मे रहोगे तुम जब तक सांस है तब तक मेरे साथ रहोगे तुम।


अपनी मोहब्बत में बस इतना सा उसूल है,
जब तू कुबूल है तो तेरा सब कुछ कुबूल है।


ख़ामोशी का अपना एक अलग ही मज़ा है, पेड़ो की जड़ें फड़फड़ाया नहीं करती दोस्त।


#राहें_बदले या #बदले_वक्त,
#हम तो #अपनी_मँजिल #पायेंगे,
जो #समझते है #खुद को #बादशाह,
#एक_दिन उसे #अपने_दरबार में #जरूर_नचायेंगे ।।


हमको आज़माने की ज़ुर्रत नहीं किसी की,
हम खुद अपनी तक़दीर लिखते है,
खुदा की लिखावट को बदलना तो हमारी फ़ितरत है,
हार को जीत में बदल कर हाथो की लकीर बदलते है!!


जीत का असली मज़ा तब है दोस्तो जब दुश्मन भी तुमसे हाथ मिलाने को बेताब रहे।


इस प्यार का अंदाज़ न जाने कैसा है, हम क्या बताये ये राज़ कैसा है, कौन कहता है आप चाँद जैसे हो, हम तो कहते हैं की चाँद खुद आप जैसा है।


बिकती है ना ख़ुशी कहीं, ना कहीं गम बिकता है. लोग गलतफहमी में हैं, कि शायद कहीं मरहम बिकता है।


मोहब्बत में भी यारों वो तो कमाल कर गई,
लिख कर i love you वो send to all कर गई।


हर फैसला किया नही जाता सिक्का उछाल के,
ये दिल का मामला होता है जरा देख-भाल के
तुम क्या जानो हमे तुमसे कितनी मोहब्बत है,
कहो तो अभी रख दूँ अपना कलेजा निकल के।


घमंड में भी अक्सर ख़त्म हो जाते है रिश्ते कसूर हर बार गलतियों का नहीं होता।


अजीब खेल है मिटटी से बने लोगो का दोस्त
बेवफ़ाई करो तो रो देते है वफ़ा करो तो रुला देते है


अंजाम की परवाह होती तो,
हम मोहब्बत करना छोड़ देते,
मोहब्बत में तो जिद्द होती है,
और जिद्द के बड़े पक्के हैं हम!!


इतनी सी बात हवाओं को बताये रखना
रौशनी होगी चिरागों को जलाये रखना
लहू देकर की है जिसकी हिफाजत हमने
ऐसे तिरंगे को हमेशा दिल में बसाये रखना


आईना देखोगे तो मेरी याद आएगी
साथ गुज़री वो मुलाकात याद आएगी
पल भर क लिए वक़्त ठहर जाएगा,
जब आपको मेरी कोई बात याद आएगी.

 


किसी मोड़ पर उसका दीदार हो जाये, काश उसे भी मुझ पर एतवार हो जाये, उसकी पलके झुकें और इकरार हो जाये, काश उसे भी मुझ से प्यार हो जाये।


जो देश के लिए शहीद हुए
उनको मेरा सलाम है
अपने खूं से जिस जमीं को सींचा
उन बहादुरों को सलाम है..


बैठे-बिठाए हाल-ए-दिल-ज़ार खुल गया
मैं आज उसके सामने बैठकर बेकार खुल गया। -मुनव्वर राणा


आग सूरज में होती है, पर जलना ज़मी को पड़ता है, मोहब्बत निगाहों से होती है, पर तड़पाना दिल को पड़ता है।


इस नजर ने उस नजर से बात करली,
रहे खामोश मगर फिर भी बात करली,
जब मोहब्बत की फ़िज़ा को खुश पाया,
तो दोनों निगाहों ने रो रो कर बरसात करली।

 


ख्वाहिशों से भरा पड़ा है मेरा घर इस कदर
रिश्ते जरा-सी जगह को तरसते हैं।


कमियाँ तो बहुत हैं मुझमें… साला कोई निकाल के तो देखे।


जोश और जुनुन इतना कि दुश्मन के दुश्मन को भी हिला दु .. और Attitude इतना कि Girlfriend की सहेली को भी अपने प्यार में झुका दु ।


  • दर्द है दिल में पर इसका एहसास नहीं होता;
  •  रोता है दिल जब वो पास नहीं होता; 
  • बर्बाद हो गए हम उसके प्यार में;
  •  और वो कहते हैं इस तरह प्यार नहीं होता.

आँख उठाकर भी न देखूँ, जिससे मेरा दिल न मिले, जबरन सबसे हाथ मिलाना, मेरे बस की बात नहीं.!


नहीं बस्ती किसी और की सूरत अब इन आँखों में
काश की हमने तुझे इतने गौर से ना देखा होता ।


शायरीयो का बादशाह हूँ और कलम मेरी रानी है,
अल्फाज़ मेरे गुलाम है, बाकी रब की महेरबानी है!!


बागों के सारे फूल गिर जातें है जब तू आती है,
अंधी है क्या देख कर चला कर गमलो से क्यों टकराती है।


कर चले हम फ़िदा जाने तन साथियो
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियो
….अब तुम्हारे हवाले वतन साथियो


सोती हुई आँखों को सलाम हमारा
मीठे सुनहरें सपनों को आदाब हमारा,
दिल मे रहे प्यार का एहसास सदा ज़िंदा,
आज की रात का यही है पैग़ाम हमारा।


तू तोड़ दे वो कसम जो तूने खाई है,
कभी कभी याद करने में क्या बुराई है,
तुझे याद किये बिना रहा भी तो नही जाता,
तूने दिल में जगह जो ऐसी बनाई है।


खुशनसीब हैं वो जो वतन पर मिट जाते हैं,
मरकर भी वो लोग अमर हो जाते हैं,
करता हूँ उन्हें सलाम ए वतन पे मिटने वालों,
तुम्हारी हर साँस में तिरंगे का नसीब बसता है…


हथियार तो सिर्फ सोंख के लिए रखा करते हे , खौफ के लिए तो बस नाम ही काफी हे ।


शुरू करते हैं फिर से मोहब्बत तुम चले आओ .. . . थोड़ा हम बदल जाते हैं .. थोड़ा तुम बदल जाओ


मोहब्बत का कोई मुकाम नही होता है,
वो जो रास्ता होता हैं न वही खूबसूरत तमाम होता है।


उनकी मुस्कान तो एक अदा है,
जो उसे प्यार समझे वो सबसे बड़ा गधा है।


दो बातें उनसे की तो दिल का दर्द खो गया, लोगो ने हमसे पूछा तुमको क्या हो गया, हम तो बस यूँ ही मुस्कुरा कर रह गये, अब कैसे कह हमे भी किसी से प्यार हो गया।


भाग्य को और दूसरों को दोष क्यों देना,,, जब सपने हमारे हैं तो कोशिशें भी हमारी होनी चाहिए।


नजरो से क्यों जलाती हो आग चाहत की,
जलाकर क्यों बुझाती हो आग चाहत की,
सर्द रातों में भी कराती हो तपन का एहसास,
हवा देकर क्यों बढ़ाती हो आग चाहत की।


स्वतन्त्र भारत के नागरिकों के लिए 15 अगस्त और 26 जनवरी दोनों ही दिन बहुत विशेष हैं| इस दिन शहीदों की कुर्बानी को याद किया जाता है और वतन पर जान देने वाले लोगों को श्रद्धांजलि दी जाती है| ये दिन देश भक्तों के नाम है जिन्होंने हँसते हुए फांसी का फंदा चूम लिया ताकि हम लोग आजाद हिंदुस्तान में सांस ले सकें|

उन शहीदों को दिल से सलाम जिन्होंने अपने घर, परिवार और अपने प्राणों की चिंता ना करते हुए अपना सब कुछ देश के लिए न्यौछावर कर दिया और भारत माता को अंग्रेजी बेड़ियों से मुक्त कराया| हम उन शहीदों को दिल से नमन करते हैं और सौगंध लेते हैं कि उनका बलिदान व्यर्थ नहीं जायेगा, हम भी अपने प्राणों की चिंता किये बगैर इस मातृभूमि की रक्षा करेंगे|


अपने अंदर से अहंकार को निकालकर
स्वयम को हल्का कीजिये, क्यूंकि उंचा वही उठता है जो हल्का होता है।


आग लगी दिल में जब वो खफ़ा हुए,
एहसास हुआ तब, जब वो जुदा हुए,
करके वफ़ा वो हमे कुछ दे न सके,
लेकिन दे गये बहुत कुछ जब वो वेबफा हुए।


जीने का असली मजा तो तब है दोस्तों, जब दुश्मन भी तुमसे हाथ मिलाने को बेताब रहे !!


हम दुश्मनों को भी बड़ी शानदार सज़ा देते हैं, हाथ नहीं उठाते बस नज़रों से गिरा देते हैं।


कुछ नशा तिरंगे की आन का है,
कुछ नशा मातृभूमि की मान का है,
हम लहरायेंगे हर जगह ये तिरंगा,
नशा ये हिन्दुस्तान की शान का है….


दुनियाँ में अगर कुछ छोड़ने जैसा है तो दुनियाँ से उम्मीद करना छोड़ दो


ऐ मेरे प्यारे वतन,
ऐ मेरे पिछड़े चमन
तुझ पे दिल कुर्बान


वोह खुश हैं पर शायद हम से नहीं
वोह नाराज हैं पर शायद हमसे नहीं
कौन कहता हैं उनके दिल में मोहब्बत नहीं
मोहब्बत तो हैं पर शायद हमसे नहीं


बहुत दर्द होता है यह सोचकर कि मुझे ऐसा, क्या पाना था जो मैंने खुद को भी खो दिया।


तलाश मेरी थी और भटक रहा था वो,
दिल मेरा था और धड़क रहा था वो।
प्यार का ताल्लुक भी अजीब होता है,
आंसू मेरे थे और सिसक रहा था वो।


अगर आप जीत गए तो आप खुश हो जाओगे और हार गए तो समझदार।


पति पत्नी में होती रहती है तकरार, बेचारे पति
को शादी करने का अफ़सोस होता है बार बार।


कुछ लोगो की मोहब्बत दिल में इस कदर उतर जाती है,
जब उन्हें दिल से निकालो तो जान निकल जाती है।


इश्क तो करता है हर कोई
महबूब पे तो मरता है हर कोई
कभी वतन को महबूब बना के देखो
तुझ पे मरेगा हर कोई


जब जेब में रुपये हो तो दुनिया आपकी औकात देखती है, और जब जेब में रुपये न हो तो दुनिया अपनी औकात दिखाती है।


तुम्हारी फिक्र है मुझे इसमे कोई शक नही, तुम्हे कोई और देखे किसी को ये हक नही।


इन हसीनो के लंबे घने जो बाल होते हैं,
ये मर्दों को फंसाने के जाल होते हैं,
न जाने कितनो का खून पिया होगा इन हसीनो ने,
तभी तो इनके होटों के रंग लाल होते हैं।


मैंने कहा जान है तू मेरी, मैंने कहा ज़िन्दगी है तू मेरी, कभी मुझसे जुदा होने की सोचना भी मत, क्योंकि पहचान है तू मेरी।


अर्ज़ किया है उंगली में अंगूठी और अंगूठी में नगीना,
New year पे तोहफे न दे वो सबसे बड़ा कमीना।


मेरे बारे में कोई राय मत बनाना ग़ालिब,
मेरा वक्त भी बदलेगा तेरी राय भी...!


ज़िन्दगी बदलने के लिए लड़ना पड़ता है और आसान करने के लिए समझना पड़ता है


अपने लिए नहीं तो उन लोगों के लिए कामयाब बनो, जो आपको नाकामयाब देखना चाहते हैं |

 


लहरों को शांत देख कर ये न समझना की समंदर में रवानी नहीं है.. जब भी उठेंगे तूफान बन के उठेंगे.. अभी उठने की ठानी नहीं है।


दुश्मन भी मेरे मुरीद हैं शायद, वक्त-बेवक्त मेरा नाम लिया करते हैं।
मेरी गली से गुजरते हैं छुपा के खंजर, रू-ब-रू होने पर सलाम किया करते हैं।


मेरी मोहब्बत भी हद से गुजर गई
जिसे माना था मैंने अपना वो कुछ ऐसा कर गई
सोचा था उसे अपनी बाइक पर घूमूँगा लेकिन
जब मैं बाइक लेकर पहुंचा उसे अपनी बाइक पर घुमाने वो साली किसी और कि फोर बिलर पर चढ़ गई


तलाश मेरी थी और भटक रहा था वो,
दिल मेरा था और धड़क रहा था वो।
प्यार का ताल्लुक भी अजीब होता है,
आंसू मेरे थे और सिसक रहा था वो।


सर झुकाने की आदत नहीं है,
आँसू बहाने की आदत नहीं है,
हम खो गए तो पछताओगे बहुत,
क्युकी हमारी लौट के आने की आदत नहीं है!


खींच दो अपने ख़ूँ से जमीं पर लकीर
इस तरफ आने पाये ना रावण कोई
तोड़ दो अगर कोई हाथ उठने लगे
छू ना पाये सीता का दामन कोई
राम भी तुम तुम्हीं लक्ष्मण साथियो
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियो


कोई चराग़ जलाता नहीं सलीक़े से,
मगर सभी को शिकायत हवा से होती है


बस इतने क़रीब रहो की बात ना हो तब भी दूरी ना लगे।


हम खुद अपनी तकदीर लिखते हैं
खुद की लिखावट को बदलना तो
हमारी फितरत है हार को जीत में
बदलकर हाथों की लकीर बदलते हैं


बदल जाओ वक्त के साथ
या फिर वक्त बदलना सीखो
मजबूरियों को मत कोसो
हर हाल में चलना सीखो


Haqikat jaan lo juda hone se pahle,
Meri sun lo apni sunane se pahle,
Ye soch lena bhulane se pahle,
Bahut royi hain ye aankhen muskurane se pahle.


ना कर तू इतनी कोशिशें मेरे दर्द को समझने की,
पहले इश्क कर, फिर चोट खा, फिर लिख,दवा मेरे दर्द की।


आग लगी दिल में जब वो खफ़ा हुए,
एहसास हुआ तब, जब वो जुदा हुए,
करके वफ़ा वो हमे कुछ दे न सके,
लेकिन दे गये बहुत कुछ जब वो वेबफा हुए।


सुन्दर है जग में सबसे, नाम भी सबसे न्यारा है
वो देश हमारा है, वो देश हमारा है

जहाँ जाति भाषा से बढ़कर देशप्रेम की धारा है
वो देश हमारा है, वो देश हमारा है


किनारा न मिले तो कोई बात नहीं, दुसरो को डुबाके मुझे तैरना नहीं हे।


जिक्र करता है ये दिल सुबह शाम तेरा, बहते हैं
आँसू और बनता है नाम तेरा, किसी और को क्यों देखे ये आँखे मेरी, जब दिल पर लिखा है मेरे नाम तेरा।


जिसके साथ आप हँस सकते हो उसके साथ पूरा दिन बिता सकते हो, लेकिन जिसके साथ आप रो सकते हो उसके साथ आप पूरी ज़िन्दगीं बिता सकते हो।


मुझे खामोश देखकर इतना
क्यों हैरान होते हो ऐ दोस्तो
कुछ नहीं हुआ है बस
भरोसा करके धोखा खाया है!


ज़िन्दगी हैं नादान इसलिए चुप हूँ,
दर्द ही दर्द सुबह शाम इसलिए चुप हूँ
कह दू ज़माने से दास्तान अपनी,
उसमे आएगा तेरा नाम इसलिए चुप हूँ


भीड़ में खड़े होना मेरा मक़सद नहीं है ज़नाब, बल्कि मुझे वो बनना है जिसके लिए भीड़ खड़ी है।


सफर वही तक जहाँ तक तुम हो, नज़र वही तक
जहाँ तक तुम हो, वैसे तो हज़ारों फूल खिलतें हैं गुलशन में मगर, खुशबू वही तक जहाँ तक तुम हो।


जब तक आप अपनी समस्याओ एवं कठिनाइयों की वजह दूसरों को मानते है, तब तक आप अपनी समस्याओ एवं कठनाइयो को मिटा नहीं सकते।


ऐसा नहीं था की दिल में तेरी तस्वीर नहीं थी,

बस इतना समझ लो की हाथो में तेरे नाम की लकीर नहीं थी….


वो जो शोर मचाते हैं भीड़ में
भीड़ ही बनकर रह जाते हैं,
वही पाते हैं जिंदगी में सफलता ✌️
जो ख़ामोशी से अपना काम कर जाते हैं।


शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले,
वतन पे मर मिटनेवालों का बाकी यही निशां होगा


किसी से प्यार करो तो इतना करो कि अगर वो आपको छोड़ के जाए भी तो किसी का ना हो पाए।


नींद आए या ना आए, चिराग बुझा दिया करो, यूँ रात भर किसी का जलना, हमसे देखा नहीं जाता।


दिल पर आये इल्ज़ाम से पहचानते हैं, अब लोग तो मुझे तेरे नाम से पहचानते हैं।


जिंदगी हमेशा एक नया मौका देती है… सरल शब्दों में उसे ‘कल’ कहते हैं !!


बहुत सुकून मिलता है जब उनसे हमारी बात होती है,
वो हजारो रातों में वो एक रात होती है,
जब निगाहें उठा कर देखते हैं वो मेरी तरफ,
तब वो ही पल मेरे लीये पूरी कायनात होती है।


ऐ मेरे वतन के लोगों तुम खूब लगा लो नारा
ये शुभ दिन है हम सब का लहरा लो तिरंगा प्यारा
पर मत भूलो सीमा पर वीरों ने है प्राण गँवाए
कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट के घर न आये….


लिख रहा हूं मैं अजांम जिसका कल आगाज आयेगा,
मेरे लहू का हर एक कतरा इकंलाब लाऐगा
मैं रहूँ या ना रहूँ पर ये वादा है तुमसे मेरा कि,
मेरे बाद वतन पर मरने वालों का सैलाब आयेगा


चाहे तू मुझे कभी मिले या न मिले..लेकिन मेरे हिस्से की भी सारी खुशी तुझे मिले।


जब इन हसीनो से नज़रें लड़ाई है तो अट्रेक्सन हो भी सकता है,
जब इश्क का फीवर चढ़े तो एक्सन हो भी सकता है,
ये हसीनाएं बलाए हैं जिनसे दूर ही रहना क्योंकि,
ये अंग्रेजी दवाएं है रिएक्सन हो भी सकता है।


लक्ष्य ना ओजल होने पाये।
कदम मिला के चल।
सफलता तेरे कदम छुएगी।
आज नही तो कल।।


न जिद है न कोई गुरूर है हमे,
बस तुम्हे पाने का सुरूर है हमे,
इश्क गुनाह है तो गलती की हमने,
सजा जो भी हो मंजूर है हमे।


फूल खिलतें हैं बहारों का समा होता है,
ऐसे मौसम में ही तो प्यार जमा होता है,
दिल की बातें होठों से नही कहते हैं,
ये फ़साना तो निगाहों से बयां होता है।


कभी हँसा देते हो तुम,कभी रुला देती हो तुम,
कभी कभी नींद से जगा देती हो तुम,
लेकिन जब भी हमे दिल से याद करती हो,
तो सच में हमारी जिंदगी का एक पल बड़ा देती हो तुम।


किसी की जिंदगी सिर्फ  दो वजह से बदलती है, एक कोई बहुत खास इंसान उसकी जिंदगी में आ जाये, दूसरा कोई बहुत खास इंसान उसकी जिंदगी से चला जाये।


तेरी मोहब्बत का ये कितना खूबसूरत एहसास है,
अब तो मुझे लगता है हर पल की तू मेरे कहीँ आस पास है।


क्यों हम फिर अलग होके यहाँ नफरत को बो रहे हैं, हासिल नहीं कुछ होता, बस अपनों को खो रहे हैं।


बदल जाओ वक्त के साथ
या फिर वक्त बदलना सीखो
मजबूरियों को मत कोसो
हर हाल में चलना सीखो


पति पत्नी में होती रहती है तकरार, बेचारे पति
को शादी करने का अफ़सोस होता है बार बार।


मुकाम वो चाहिए की जिस दिन भी हारु, उस दिन जीतने वाले से ज्यादा मेंरे चर्चे हो।


एहसास के दामन में आंसू गिरा कर देखो,
प्यार कितना है कभी हमे आज़मा कर देखो,
बिछड़ कर तुमसे क्या होगी दिल की हालत,
कभी किसी आईने पर पत्थर गिरा कर देखो।


वो कहती है अपने भाइयों से,
मेरा आशिक है इसे यूँ न पीटो,
बड़ा ज़िद्दी है ये कमीना पहले इसे कुत्ते की तरह घसीटो।


महोबत भी बड़ी अजीब चीज़ है
कही कोई अपने प्यार से बोहत खुश है
तो कही कोई अपने प्यार को कोस्ता है
विश्वास करो यारो प्यार बड़ी दिलचसब चीज़ है


मेरे घर वाले बोले सुधर जा पगले..। मैने बोला अगर हम सुधर गये तो उनका क्या होगा….! जिन्हें हमारी मस्ती प्यारी है

 


इश्क-ऐ-दरिया में हम डूब कर भी देख आये, वो लोग मुनाफे में रहे जो किनारे से लौट आये !!


उन्होंने आज हम पर तिरछी नज़र डाली
तो हम मदहोश हो गए
बाद में पता चला नज़र ही तिरछी है
तो हम बेहोश हो गए।


भीड़ में खड़ा होना मकसद नहीं है मेरा बल्कि भीड़ जिसके लिए खड़ी है वह बनना है मुझे..!


अपनी मोहब्बत से सजाना है तुझको, कितनी चाहत है तुझसे ये बताना है तुझको, राहों में तेरी बिछाकर मोहब्बत अपनी, इश्क के सफर पर ले जाना है तुझको।


प्यार का रिश्ता इतना मजबूत होना चाहिए कि किसी तीसरे इंसान की वजह से कभी न टूटे।


राज तो हमारा हर जगह पे है।
पसंद करने वालों के “दिल” में और
नापसंद करने वालों के “दिमाग” में।


जो दिल के करीब थे ,वो जबसे दुश्मन हो गए
जमाने में हुए चर्चे ,हम मशहूर हो गए


जब मुक्कदर का ढीला हो पजामा,
तब गधे को बनाना पड़ता है बाप,
और बन्दर को बनाना पड़ता है मामा।


डरपोक अपनी मृत्यु से पहले कई बार मरते हैं; बहादुर मौत का स्वाद और कभी नहीं बस एक बार चखते हैं।


इन्सान के जिस्म का सबसे खुबसूरत हिस्सा दिल है, और अगर वो ही साफ़ ना हो तो चमकता चहेरा किसी काम का नहीं।


अरे यारो वो गुस्से में भी हम पर रहम कर गई,
लगाया कस कर चाटा और सर्दी में भी गाल गर्म कर गई


अभी तो हम मैदान में उतरे भी नहीं,
और लोगों ने हमारे चर्चे शुरू कर दिये!!


अगर तुम अपनी ज़िंदगी अपने तरीके से नहीं जीओगे तो लोग अपने तरीके तुम पर लाध देंगे।


गुजर जाएगा ये दौर भी ज़रा इत्मीनान तो रख जब ख़ुशी ही ना ठहरी तो ग़म की क्या औकात है।


वक़्त की कीमत कोई उस अख़बार से पूछे,
दिन बीत जाने के बाद जिसकी कोई कीमत नहीं होती।


बस एक छोटी सी हां कर दो, और बस इस तरह मेरे नाम सारा जहाँ कर दो, देते हैं हम ये गुलाब आपको, बस अब ये अपनी मोहब्बत हमारे नाम कर दो।


आप दिल से दूर हैं और पास भी,
आप लवो की हँसी हो, और आँसू भी,
आप दिल का सुकून हो,और बेचैनी भी,
आप हमारी अमानत हो,और एक सपना भी।


पलको से आँखो की हिफाजत होती है
धडकन दिल की अमानत होती है
ये रिश्ता भी बडा प्यारा होता है
कभी चाहत तो कभी शिकायत होती है


कमाल की चीज है ये मोहब्बत अधूरी हो सकती है, पर कभी खत्म नही हो सकती।


चलो आज फिर थोडा मुस्कुराया जाये,
बिना माचिस के कुछ लोगो को जलाया जाये!!


अब हम न तुम्हे खोना चाहते हैं,
अब न तुम्हारी यादों में रोना चाहतें हैं,
बस तुम्हारा साथ मिले हमे हर पल,
अब बस इतनी सी बात तुमसे कहना चाहते हैं।


ग़ुस्से में कभी कोई फ़ैसला मत लो, और ख़ुशी में कभी कोई वादा ना करो।


असल मोहब्बत तो वो,
पहली ही मोहब्बत थी,
इसके बाद तो हर शख्स में,
सिर्फ उसी को ढूँढा है।


पहली मोहब्बत के लिए दिल जिसे चुनता है. वो अपना हो न हो…दिल पर राज हमेशा उसी का रहता है।


सीने में जूनून और आँखों में देशभक्ति की चमक रखता हूँ !
दुश्मन की सांसे थम जायें, आवाज में इतनी धमक रखता हूँ !!


छोड दो तन्हाई मे मुझको यारो..
साथ मेरे रहकर क्या पाओगे….
अगर हो गई आपको भी मोहब्बत कभी
मेरी तरह तुम भी पछताओगे…


अब काश मेरे दर्द की कोई दवा न हो
बढ़ता ही जाये ये तो मुसल्सल शिफ़ा न हो
बाग़ों में देखूं टूटे हुए बर्ग ओ बार ही
मेरी नजर बहार की फिर आशना न हो


बदल जाओ वक्त के साथ
या फिर वक्त बदलना सीखो
मजबूरियों को मत कोसो
हर हाल में चलना सीखो


अब हम भी कुछ मोहब्बत के गीत गुनगुनाने लगे हैं,
जब से वो हमारे ख्वाबो में आने लगे हैं।


खून में उबाल आज भी खानदानी है ….दुनिया हमारे शौक की नहीं Attitude की दीवानी है..!


हमें भी नींद आ जाएगी, हम भी सो ही जाएंगे
अभी कुछ बेकरारी है, सितारों तुम तो सो जाओ...।


दिल तोड़कर वो मेरा खश हैं
तो शिकायत कैसी...
अब मैं उन्हें खुश भी न देखूं
तो फिर ये मोहब्बत कैसी...


ख्वाइश है तुझे अपना बनाने की,
और कोई ख्वाइश नही इस दीवाने की,
शिकायत मुझे तुझसे नही खुदा से है,
क्या ज़रूरत थी तुझे इतना खूबसूरत बनाने की।


उठाना खुद ही पड़ता है थका टुटा बदन अपना, की जब तक साँसे चलती है कन्धा कोई नही देता।


बड़ी से बड़ी हस्ती मिट गयी मुझे झुकाने मे बेटा तू तो कोशिश भी मत करना तेरी उम्र गुजर जायगी मुझे गिराने मे..!

 


हमने तो तेरे इश्क़ में रो रो कर दरिया बहा दिए,
तू इतना बेवफा निकला कि हम उस दरिया में नहा लिए।


किसी पर शक करके बर्बाद होने से अच्छा है, किसी पर यकीन करके बर्बाद जो जाओ।


इश्क के समंदर में सब डूबना चाहते हैं, इश्क में लोग कुछ खोते हैं तो कुछ पाते हैं, इश्क तो एक गुलाब है जो सब तोडना चाहते हैं, लेकिन हम तो ये गुलाब आपको देना चाहते हसीन।


बचाओ लाख दिल को लेकिन मोहब्बत हो ही जाती है,
निगाहे तो आखिर निगाहे हैं ये शरारत हो ही जाती है।


बिन बात के ही रूठने की आदत है;
किसी अपने का साथ पाने की चाहत है;
आप खुश रहें, मेरा क्या है;
मैं तो आइना हूँ, मुझे तो टूटने की आदत है!


दुनियाँ में अगर कुछ छोड़ने जैसा है तो दुनियाँ से उम्मीद करना छोड़ दो।


हमारी पहचान तो सिर्फ ये है कि हम भारतीय हैं – जय भारत, वन्दे मातरम


लिखना था कि
खुश हैं तेरे बगैर भी यहां हम,
मगर कमबख्त...
आंसू हैं कि कलम से
पहले ही चल दिए।


टूट जाएगी तुम्हारी जिद की आदत उस दिन,
जब पता चलेगा कि याद करने वाला अब याद बन गया!


आज वो अपनी ज़ुल्फ़ों में फूल लगा कर आई है,
ऐसा लगता है कोई हूर उतर आई है,
किसी ने कहा बहुत खूबसूरत लग रही हो,
मैंने कहा लगता है आज नहा कर आई है।


खून से खेलेंगे होली,
अगर वतन मुश्किल में है
सरफ़रोशी की तमन्ना
अब हमारे दिल में है,,


आजादी की कभी शाम नहीं होने देंगे
शहीदों की कुर्बानी बदनाम नहीं होने देंगे
बची हो जो एक बूंद भी लहू की
तब तक भारत माता का आँचल नीलाम नहीं होने देंगे


मुझे तो न कोई आसमान चाहिये, मुझे तो न कोई जहाँ चाहिये, तू तो सितारों की एक महफ़िल है, बस उस पूरी महफ़िल में से बस एक तू चाहिए।


अपनी जिंदगी के बस यही उसूल हैं, अगर तू कह तो काटें भी कुबूल हैं, हंस कर चल दूँ कांच के टुकड़ो पर भी, अगर तू कह ये मेरे बिछाये हुए फूल हैं।


वो आये थे मेरी कबर पर अपने हमसफर के साथ
कौन कहता है के मरने के बाद कोई याद नहीं करता
हर तरफ रौनक है बस एक तेरी ही कमी
शरद मौसम हल्के बादल और उदासी भरी शाम


तेरी झील सी आँखों में डूब जाने का दिल चाहता है,
वफ़ा पर तेरी बर्बाद हो जाने का दिल चाहता है,
कोई सम्भाले हमे, बहक रहे हैं कदम,
तेरे इश्क में मर जाने का दिल चाहता है।


आदते बुरी नहीं, शौक ऊँचे हैं, वर्ना किसी ख्वाब की इतनी औकात नही की, हम देखे और पुरा ना हो।


जब खामोश निगाहों से बात होती है,
तो ऐसे ही मोहब्बत की शुरुआत होती है,
हमतो बस खोये ही रहतें हैं उनके ख्यालों में,
पता ही नही चलता कब दिन कब रात होती है।


ज़िंदगी से हम अपनी कुछ उधार नही लेते,
कफ़न भी लेते है तो अपनी ज़िंदगी देकर!!


अपनी आज़ादी को हम हरगिज़ मिटा सकते नहीं
सर कटा सकते हैं लेकिन सर झुका सकते नहीं


जहाँ कदर न हो अपनी वहाँ जाना फ़िज़ूल है,
चाहे किसी का घर हो चाहे किसी का दिल।


एक लड़की जो पा सकती है सिर्फ उसे ही हासिल कर पाती है लेकिन एक औरत जो चाहती है उसे पा लेती है।


किसी ने पूछा इश्क हुआ था क्या? हमने मुस्कुरा कर कहा आज भी है।


जिस दिन हमने अपना रॉयल अंदाज़ दिखाया..उस दिन ये Attitude वाली लड़कियां खड़े खड़े ढेर हो जाएंगी??


Mat dekh meri profile ko
Warna pyaar ho jayega
Apni wali GF ko sambhal
Warna Breakup ho jayega


प्यार नही है तो बेशक इनकार कर दे, दूर हो जाओ लेकिन कभी किसी की फीलिंग्स के साथ टाइम पास मत करो।


मेरे यार कहतें है तूने लड़की पटा के कमाल कर दिया,
लेकिन यारों कैसे सुनाऊ अपने प्यार की दास्तान,
उसके बाप ने मार मार के पिछबाड़ा लाल कर दिया।


एक ख़्याल ही बताती है कि परवाह कितना है, वरना कोई तराजू नहीं होती रिश्तों में।


मेरें अंदर कमी निकालने से पहले तुम ख़ुद की सारी कमियाँ खत्म करके दिखाओ।


दिल्लगी कर जिन्दगी से दिल लगाकर चल,
जिन्दगी है थोड़ी, थोडा मुस्कुरा के चल।


जाने कब आपसे प्यार का इज़हार होगा,
जाने कब आपको हमसे प्यार जोगा,
गुजर रही हैं आपकी ही याद में ये रातें,
जाने कब आपको भी हमारा इंतज़ार होगा।


रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ाइल
जब आंख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है।


उठाना खुद ही पड़ता है थका टुटा बदन अपना, की जब तक साँसे चलती है कन्धा कोई नही देता।


मुझे खामोश देखकर इतना
क्यों हैरान होते हो ऐ दोस्तो
कुछ नहीं हुआ है बस
भरोसा करके धोखा खाया है!


हुकुमत वो ही करता है जिसका दिलो पर राज हो, वरना यूँ तो गली के मुर्गो के सर पे भी ताज होता है।


कुछ ही देर की खामोशी है, फिर कानों में शोर आएगा ! तुम्हारा तो सिर्फ वक्त है… हमारा तोह दौर आएगा !


जिस दिन आपने अपनी सोच बड़ी कर ली, बड़े बड़े लोग आपके बारे मे सोचना शुरू कर देंगे।


जो दिल के करीब थे ,वो जबसे दुश्मन हो गए
जमाने में हुए चर्चे ,हम मशहूर हो गए


मेरी हिम्मत को पहचान ने की कोशिश ना कर, पहले भी कही तुफानो ने उनका रास्ता बदल दिया हे।


हम आज भी शतरंज़ का खेल,
अकेले ही खेलते हैं,
क्यूंकि दोस्तों के खिलाफ चाल,
चलना हमे आता नही!!


घाव जिन्होंने भारत माता को गहरे दे रक्खे हैं
उन लोगों को जैड सुरक्षा के पहरे दे रक्खे हैं
जो भारत को बरबादी की हद तक लाने वाले हैं
वे ही स्वर्ण-जयंती का पैगाम सुनाने वाले हैं


कुछ देर का इंतज़ार मिला हमको,
पर सबसे प्यारा यार मिला हमको,
तेरे बाद किसी और की ख्वाइश न रही,
क्योंकि तेरे प्यार से सब कुछ मिला हमको।


मजा आता है किस्मत से लड़ने में, किस्मत आगे बढ़ने नहीं देती और मुझे रुकना आता नहीं।


तुमसे बिछड़ा तो पसन्द आ गयी बेतरतीबी,
इससे पहले मेरा कमरा भी ग़ज़ल जैसा था!


खुदासे बस आपकी ख़ुशी मांगतें हैं,
दुआओं में आपकी हसीं मांगतें हैं,
सोचतें हैं आपसे क्या मांगे,
चलो आपसे उम्र भर की मोहब्बत मांगतें हैं।


मैं बड़ो कि इज़्जत इसलिए करता हु, क्यूंकि उनकी अच्छाइया मुझसे ज़्यादा है। और छोटो से प्यार इसलिए करता हु, क्यूंकि उनके गुनाह मुझसे कम है।


आन देश की, शान देश की, इस देश की हम संतान हैं !
तीन रंगों से रंगा तिरंगा, अपनी ये पहचान है !!


अब जानेमन तू तो नहीं,
शिकवा -ए-गम किससे कहें
या चुप हें या रो पड़ें,
किस्सा-ए-गम किससे कहें।


ज़ाहिर भी कर रही थी कुछ,कुछ छुपा भी रही थी,…..उसकी पलकें झुकीं हुईं थीं,और वो मुस्कुरा भी रही थी…!


हमसे एक वादा करो हमे रुलाओगे नही,
हालात जो भी हों कभी हमे भुलाओगे नही,
अपनी आँखों में छुपा कर रखोगे हमको,
और फिर किसी को दिखाओगे नही।


प्यार इश्क मोहब्बत सब धोखेबाजी है…अपनी लाइफ में तो सिर्फ Attitude ही काफी है


वह तो पानी की बूँद है जो आँखों से बह जाये,
आंसू तो वह है जो तड़प के आँखों मे ही रह जाये,
वह प्यार क्या जो लफ्ज़ो मे बयान हो,
प्यार तो वह है जो आखों मे नज़र आये…


झूठ बोलकर तो मैं भी दरिया पार कर जाता,
डुबो दिया मुझे सच बोलने की आदत ने...


हमसे एक वादा करो हमे रुलाओगे नही,
हालात जो भी हों कभी हमे भुलाओगे नही,
अपनी आँखों में छुपा कर रखोगे हमको,
और फिर किसी को दिखाओगे नही।


लहराएगा तिरंगा अब सारे आसमान पर
भारत का ही नाम होगा सबकी जुबान पर
ले लेंगे उसकी जान या खेलेंगे अपनी जान पर
कोई जो उठाएगा आँख हिंदुस्तान पर


जब मुक्कदर का ढीला हो पजामा,
तब गधे को बनाना पड़ता है बाप,
और बन्दर को बनाना पड़ता है मामा।


भीड़ में खड़ा होना मकसद नहीं हैं मेरा,
बल्कि भीड़ जिसके लिए खडी है वो बनना है मुझे!!


भीड़ में खड़ा होना मकसद नहीं है मेरा बल्कि भीड़ जिसके लिए खड़ी है वह बनना है.. मुझे…!


उठाना खुद ही पड़ता है थका टुटा बदन अपना, की जब तक साँसे चलती है कन्धा कोई नही देता।


जो लड़की आपकी बात सुन कर, आपको पागल कहती है ना वही आपसे सच्ची मोहब्बत करती है।


मोहब्बत के चर्चे बहुत हैं यारों,
हुस्न के पर्चे बहुत है यारों,
मोहब्बत करने से पहले सोच लेना,
क्योंकि इसमें खर्चे बहुत है यारों।


बहुत गौर से देखने पर जिंदगी को जाना मैंने… दिल से बड़ा दुश्मन पूरे जमाने में नहीं है…!!!


ये रास्ते ले ही जाएंगे…. मंजिल तक, तू हौसला रख, कभी सुना है कि अंधेरे ने सुबह ना होने दी हो।


हम तो मजाक में भी किसी को
दर्द देने से डरते हैं
न जाने लोग कैसे सोच-समझकर
दिलों से खेल जाते हैं


बुरे हैं ह़म तभी तो ज़ी रहे हैं.. अच्छे होते तो द़ुनिया ज़ीने नही देती।


दिल से रोये मगर होंठो से मुस्कुरा बेठे,
यूँ ही हम किसी से वफ़ा निभा बेठे,
वो हमे एक लम्हा न दे पाए अपने प्यार का,
और हम उनके लिये जिंदगी लुटा बेठे!

 


बागों के सारे फूल गिर जातें है जब तू आती है,
अंधी है क्या देख कर चला कर गमलो से क्यों टकराती है।


मैं यूँ मिलूँ तुझसे की तेरा लिबास बन जाऊँ, तुझे बना कर समंदर खुद प्यास बन जाऊँ, आज पहलू में टूट कर बिखर जाऊँ, कल को शायद मुमकिन नही हो मैं तुझको पाऊँ।


ये तुमसे किसने कहा तुम इश्क का तमाशा करना,
अगर मोहब्बत करते हो हमसे तो बस हल्का सा इशारा करना।


अब जानेमन तू तो नहीं,
शिकवा -ए-गम किससे कहें
या चुप हें या रो पड़ें,
किस्सा-ए-गम किससे कहें।


तिरंगा है आन मेरी
तिरंगा ही है शान मेरी
तिरंगा रहे सदा ऊँचा हमारा
तिरंगे से है धरती महान मेरी


चैन ओ अमन का देश है मेरा, इस देश में दंगा रहने दो
लाल हरे में मत बांटो, इसे शान ए तिरंगा रहने दो


आत्मसम्मान एक छोटी सी चीज़ है जो आपको दूसरों से अलग बनाती है।


जाम पर जाम पीने से क्या फायदा,
शाम को पीके सुबह को उतर जाएगी,
जरा दो घूट मेरे इश्क की पी कर तो देख,
तेरी सारी जिंदगी नशे में गुजर जायेगी।


तेरी मोहब्बत ने हमे बेनाम कर दिया,
हमे हर ख़ुशी से अंजान कर दिया,
हमने तो कभी नही चाहा था हमे मोहब्बत हो,
लेकिन उसकी पहली नज़र ने हमे नीलाम कर दिया


जो अब तक ना खौला, वो खून नहीं पानी है,
जो देश के काम ना आये, वो बेकार जवानी है


दिल का हाल बताना नही आता,
हमे ऐसे किसी को तड़पाना नही आता,
सुनना तो चाहतें हैं हम उनकी आवाज़ को,
पर हमे कोई बात करने का बहाना नही आता।


जिन्दगी में इन्सान किसी चीज की सच्ची किंमत केवल दो ही हालातों में समझ पाता है, उसको पाने से पहले और उसको खोने के बाद।


कुछ भी कहो लेकिन एक बार धोखा खाने के बाद किसी पर यकीन करना मुश्किल होता है।


शिकवा करूं तो किससे करूं, ये अपना मुकद्दर है अपनी ही लकीरें हैं।


सुना है आज समंदर को बड़ा गुमान आया है,
उधर ही ले चलो कश्ती जहां तूफान आया है।


मैं तुमसे बेहद प्यार करता हूँ, इसलिए नहीं कि तुम्हारा चेहरा कैसा है बल्कि इसलिए कि तुम कैसे हो।


अपने दोस्तों को समझकर चुनो , तुम वही बन जाओगे जैसे तुम्हरे दोस्त है।


इस नजर ने उस नजर से बात करली,
रहे खामोश मगर फिर भी बात करली,
जब मोहब्बत की फ़िज़ा को खुश पाया,
तो दोनों निगाहों ने रो रो कर बरसात करली।


ये मत सोचना कि तुम्हारे बिना मर जायेंगे हम, वो लोग भी जी रहे हैं जिन्हें छोड़ा था मैंने तुम्हारी खातिर।


दिलों की नफरत को निकालो
वतन के इन दुश्मनों को मारो
ये देश है खतरे में ए -मेरे -हमवतन
भारत माँ के सम्मान को बचा लो


किसी न किसी को किसी पर एतवार हो जाता है,
एक अजनबी सा चेहरा ही यार हो जाता है,
खूबियों से ही नही होती मोहब्बत सदा,
किसी की कमियों से भी कभी प्यार हो जाता है।


यारों हम उन्हें मुड़ मुड़ कर देखते रहे,
और वो हमें मुड़ मुड़ कर देखते रहे,
वो हमें, हम उन्हें, वो हमें, हम उन्हें, वो हमें,
क्योंकि परीक्षा में न उन्हें कुछ आता था न हमे।


मुँह पर सच बोलने की आदत हैं मुझे इसलिए लोग मुझें बदतमीज कहते है।


मेरा Attitude भगवान् का दिया तोहफा है…कोई मुझसे ये छीन नहीं सकता।


एक न इक रोज़ तो होना है ये जब हो जाए, इश्क का कोई भरोसा नहीं कब हो जाए


लगता था ज़िन्दगी को बदलने में वक़्त लगेगा. . .पर क्या पता था बदलता हुआ वक़्त ज़िन्दगी बदल देगा.


मैं तो इस वास्ते चुप हूं कि तमाशा न बने
और तू समझता है मुझे तुझसे गिला कुछ भी नहीं!


सबको अच्छे लगना जरूरी नहीं किसी की आँखों मे खटकना भी जरूरी है।


बेवकूफ़ होते है वो लोग,
जो किताब मे चेहरे डाल के पढ़ा करते है,
हम तो उनमे से है जो चेहरे को देख के,
किताब लिख दिया करते है!!


जो दिल का सच्चा होता है वो झगड़ा चाहे जितना करे लेकिन कभी छोड़ के नहीं जाएगा।


जब तक हम किसी भी काम को करने की कोशिश नही करते हैं, जब तक हमे वो काम नामुमकिन ही लगता है।


जख़्म इतना गहरा हैं इज़हार क्या करें।
हम ख़ुद निशां बन गये ओरो का क्या करें।
मर गए हम मगर खुली रही आँखे हमरी।
क्योंकि हमारी आँखों को उनका इंतेज़ार हैं।


अब आपकी मर्जी है संभालें न संभालें। खुशबू की तरह आपके रुमाल में हम हैं।


ये दुनिया….एक दुल्हन
ये दुनिया….एक दुल्हन…दुल्हन के माथे पे बिंदिया
I Love My India


आपका वक्त कितना भी बुरा क्यों ना हो, लेकिन सच्चा प्यार करनें वाला आपको कभी भी अकेला नहीं छोड़ सकता।


पाने से खोने का मज़ा कुछ और है
बंद आँखों से सोने का मज़ा कुछ और है
आँसू बने लफ़ज़ और लफ़ज़ बनी जुबा
इस ग़ज़ल में किसी के होने का मज़ा कुछ और है


मैंने कुछ लोग लगा रखे हैं पीठ पीछे बात करने के लिए,
पगार कुछ नहीं है उनकी पर काम बड़ी ईमानदारी से करते हैं!!


वो दिल ही क्या जो वफ़ा न करे, तुझे भूल कर जिए कभी खुदा न करे, रहेगी तेरी मोहब्बत जिंदगी बन कर, वो बात और है जिंदगी वफ़ा न करे।


हुनर सबका अलग होता है दोस्त किसी का छिप जाता है किसी का छप जाता है…।


पत्नी के गुस्से से पति को लगता है डर, जब पत्नी कहती है मत मार नजरे इधर उधर थोड़ी बहुत शर्म तो कर


chating chating

yes papa

girlfriend satting

no papa

Telling lies

no papa

open ur whatapp

hahahah.....


दरिया बनकर किसीको डुबाने से बेहतर है, की जरिया बनकर किसीको बचाया जाए।


इश्क सभी को जीना सीखा देता है,
वफ़ा के नाम पर मरना सीखा देता है,
इश्क नही किया तो करके देखना,
ज़ालिम हर दर्द सहना सिखा देता है।


तूम बहुत खूबसूरत हो आंखों में काजल लगाया करो,
मैं तो कहता हूँ आंखों में काजल ही नही,
गले मे नीबू मिर्ची और चप्पल भी लटकाया करो।


ना पेशी होगी, न गवाह होगा, अब जो भी हमसे उलझेगा बस सीधा तबाह होगा


न किसी का दिल चाहिए
न किसी की जान चाहिए
जो मुझे समझ सके
बस एक ऐसा इंसान चाहिए


ज़िन्दगी यूँ ही बहुत कम है, मोहब्बत के लिए, फिर एक दूसरे से रूठकर वक़्त गँवाने की जरूरत क्या है।


कर जज्बे को बुलंद जवान, तेरे पीछे खड़ी आवाम !
हर दुश्मन को मार गिराएंगे, जो हमसे देश बँटवाएंगे !!


मंज़िल नहीं मुझे तो राह से मिलना है, दुनिया के साथ किसे जीना है, मुझे तो Attitude में जीकर शान से मरना है.


  • बहुत बदल गए हो, अच्छी बात हैं
  •   पर इतना याद रखना कोई है
  • जो तुम्हें बेपनाह प्यार करता है

अब आपकी मर्जी है संभालें न संभालें। खुशबू की तरह आपके रुमाल में हम हैं।


न गुलफाम चाहिये, न कोई सलाम चाहिये,
मोहब्बत का बस कोई पैगाम चाहिये,
और जिसको पीकर उड़ जायें होश हमारे,
हमारे ल्वजो को तो ऐसा ज़ाम चाहिये।


प्यार के रास्ते बेवफा हो नहीं सकते
हम आपसे खफा हो नहीं सकते
आप बेशक हमें भूल कर सो जाओ
मगर हम आपको याद किये बिना सो नहीं सकते ||


अभी तो हम मैदान में उतरे भी नहीं,
और लोगों ने हमारे चर्चे शुरू कर दिये!!


आ जाओ किसी रोज़ तुम तो तुम्हारी रूह मे उतर जाऊँ !
साथ रहूँ मैं तुम्हारे ना किसी और को नज़र आऊँ !
चाहकर भी मुझे कोई छू ना सके मुझे कोई इस तरह !
तुम कहो तो यूं तुम्हारी बाहों में बिखर जाऊँ !


छोड़ दिया मैंने अपने दिल का साथ,
प्यार ने थाम लिया है तनहाई का हाथ।
इतना तो गुरूर है मुझे आज
भले अहसासों ने छोड़ा, तनहाई न होगी दगाबाज़।


कोई कहता है प्यार नशा बन जाता है!
कोई कहता है प्यार सज़ा बन जाता है!
पर प्यार करो अगर सच्चे दिल से,
तो वो प्यार ही जीने की वजह बन जाता है!

 


मैं माफ़ तो कर सकता हूँ लेकिन कभी भूल नहीं सकता।


तुम ज़माने के हो हमारे सिवाय
हम किसी के नहीं, तुम्हारे हैं


किसी मूर्ख से बहस करने से बेहतर है कि शांत रहा जाए


खामोश बैठें तो लोग कहते हैं उदासी अच्छी नहीं,
जरा-सा हंस लें तो मुस्कुराने की वजह पूछते हैं।


कोई चाँद से मोहब्बत करता है, कोई सूरज से मोहब्बत करता है, हम उनसे मोहब्बत करते हैं, जो
हमसे मोहब्बत करता है।


उड़ जाती है नींद ये सोचकर
कि सरहद पे दी गयीं वो कुर्बानियां
मेरी नींद के लिए थीं


दोस्तों मत लगाना बोली हमारे अल्फाजो की

हमने लिखना शुरू किया तो तुम नीलाम हो जाओगे


हम खुद अपनी तकदीर लिखते हैं
खुद की लिखावट को बदलना तो
हमारी फितरत है हार को जीत में
बदलकर हाथों की लकीर बदलते हैं


हम आपको इस कदर चाहते हैं,
जिसे देख कर दुनिया वाले जल जाते हैं,
वैसे तो हम हर किसी को उल्लू बनाते है,
लेकिन आप थोड़ा जल्दी बन जाते हैं।


दिल में प्यार का आगाज हुआ करता है,
बातें करने का अंदाज हुआ करता है,
जब तक दिल को ठोकर नहीं लगती,
सबको अपने प्यार पर नाज हुआ करता है!


मिल सके जो आसानी से
उसकी ख्वाहिश किसे है
जिद्द तो उसकी है जो
मुकद्दर में लिखा ही नहीं है।


मोहब्बत की शमा जला कर तो देखो, ये दिलो की दुनिया सज़ा कर तो देखो, तुझे हो न जाए मोहब्बत तो कहना, ज़रा हमसे नजरे मिला कर देखो।


आपको याद करना मेरी आदत बन गई है,
आपका खयाल रखना मेरी फितरत बन गई है,
आपसे मिलना ये मेरी चाहत बन गई है,
आपको प्यार करना मेरी किस्मत बन गई है।


वो खुद पर इतना गुरूर करते हैं,
तो इसमें हैरत की बात नहीं,
जिन्हें हम चाहते हैं,
वो आम हो ही नहीं सकते।


जब किसी की रूह में उतर जाता है मोहब्बत का समंदर,
तब लोग जिन्दा तो होते हैं, लेकिन किसी और के अंदर।


एक तेरा दीदार मेरे सारे गमो को भुला देता है,
मेरी जिंदगी को जिंदगी बना देता है।


मुझे ख़ुद को बेक़सूर सबित करने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि मैं जानता हूँ कि मैं बेक़सूर हूँ।


तेरे दामन से जो आये, उन हवाओं को सलाम
चूम लूँ मैं उस जुबां को जिस पे आये तेरा नाम
सबसे सुन्दर सुबह तेरी
सबसे सुन्दर तेरी शाम
तुझ पे दिल कुरबान
ऐ मेरे प्यारे वतन,
ऐ मेरे पिछड़े चमन
तुझ पे दिल कुर्बान।।


जो कह दिया वो…
अल्फाज़ थे
जो कह न सके वो…
जज्बात थे
जो कहते-कहते कह न पाये वो…
एहसास थे


हुनर सबका अलग होता है, बस किसी का छिप जाता है और किसीका छप जाता है।


चुपके से आकर मेरे दिल में उतर जाते हो, सांसो में मेरी खुशबू बन कर बिखर जाते हो, कुछ यूँ
चला है तेरे इश्क का जादू, सोतें जागते अब तो तुम ही तुम नज़र आते हो।


न चाँद की चाहत, न तारों की फरमाइश,
हर पल में हो तू मेरे साथ बस यही है मेरी ख्वाइश।


अनेकता में एकता ही इस देश की शान है,
इसीलिए मेरा भारत महान है


वो कहती है अपने भाइयों से,
मेरा आशिक है इसे यूँ न पीटो,
बड़ा ज़िद्दी है ये कमीना पहले इसे कुत्ते की तरह घसीटो।


मैं अपनी गलती पर शर्मिंदा हूँ, मैं भूल गया था कि तुम एक मूर्ख हो।


अपनी कलम से लिखूं वो लफ़्ज़ हो तुम, अपने दिमाग से सोच लूँ वो ख्याल हो तुम, अपनी दुआओ
में मांग लूँ वो मन्नत हो तुम, और जिसे हम अपने दिल में रखते हैं वो चाहत हो तुम।


तेरे नज़रों के तीर इतने शातिर है,
की पता ही नही चलता किस के खातिर हैं।


यारों हम उन्हें मुड़ मुड़ कर देखते रहे,
और वो हमें मुड़ मुड़ कर देखते रहे,
वो हमें, हम उन्हें, वो हमें, हम उन्हें, वो हमें,
क्योंकि परीक्षा में न उन्हें कुछ आता था न हमे।


आँखों के सामने हमने हर पल आपको ही पाया है, हमने तो हर पल इस दिल में बस आपको ही बसाया है, हम आपके बिना जिए भी तो कैसे, क्या कोई अपनी जान के बिना भी जी पाया है।


कैसे बयान करें सादगी अपने महबूब की, पर्दा हमीं से था मगर नजर भी हमीं पे थी।


हर एक हसीन चहरे में गुमान उसका था,
वस सका न इस दिल कोई क्योंकि ये मकान उसका था,
मिट गया हर एक गम मेरे दिल से,
लेकिन जो मिट न सका मेरे दिल से वो नाम उसका था।


नया हूँ अभी धीरे धीरे सीख जाऊंगा.. पर,
किसी के सामने झुक कर अपनी पहचान नहीं बनाऊंगा।


हर कदम हर पल हम आपके साथ है,
भले ही आपसे दूर सही, लेकिन आपके पास हैं,
जिंदगी में हम कभी आपके हो या न हों,
लेकिन हमे आपकी कमी का हर पल एहसास हैं।


ये जिंदगी कितनी खूबसूरत है,
बस अब आप आइये आपकी ही जरूरत है।


हर दिन तुम मेरे दिमाग़ में आने वाली पहली और आख़िरी चीज़ हो।


हम भी अब मोहब्बत के गीत गाने लगे हैं, जब से वो हमारे ख्वाबों में आने लगे हैं।


इन अश्कों की आंखों से जुदाई कर देना,
अपने दिल से सारे गमो की जुदाई कर देना,
अगर फिर भी दिल न लगे जाने वफ़ा,
तो आकर मेरे घर की सफाई कर देना।


हम आपको इस कदर चाहते हैं,
जिसे देख कर दुनिया वाले जल जाते हैं,
वैसे तो हम हर किसी को उल्लू बनाते है,
लेकिन आप थोड़ा जल्दी बन जाते हैं।


मुस्कुराना तो मेरी शख्सियत का एक हिस्सा है दोस्तों, तुम मुझे खुश समझ कर दुआओ में भूल मत जाना।


तू देख या न देख इसका गम नही,
पर तेरे न देखने की अदा किसी देखने से कम नही।


या खुदा रेत के सेहरा को समंदर कर दे
या छलकती हुई आंखों को भी पत्थर कर दे।


बहुत सुकून मिलता है जब उनसे हमारी बात होती है,
वो हजारो रातों में वो एक रात होती है,
जब निगाहें उठा कर देखते हैं वो मेरी तरफ,
तब वो ही पल मेरे लीये पूरी कायनात होती है।


हम तो इतने रोमान्टिक है की हम अगर थोड़ी देर मोबाइल हाथ मै लेले.. तो वो भी गरम हो जाता है…!


हंसी आपकी कोई
चुरा न पाए
आपको कभी कोई
रुला न पाए
खुशियों का दीप ऐसा जले
ज़िन्दगी में
की कोई तूफ़ान भी उसे
बुझा न पाए


ये हमारी मोहब्बत है या कुछ और ये तो पता नही,
लेकिन जो तुमसे है, वो किसी और से नही।


राज तो हमारा हर जगह पे है। पसंद करने वालों के “दिल” में और नापसंद करने वालों के “दिमाग” में।


हमारी हैसियत का अंदाज़ा, 
तुम ये जान के लगा लो,
हम कभी उनके नही होते, 
जो हर किसी के हो जाए।


एक आंसू भी
हुकूमत के लिए ख़तरा है
तुम ने देखा नहीं
आंखों का समुंदर होना
-मुनव्वर राणा


किसी न किसी को किसी पर एतवार हो जाता है,
एक अजनबी सा चेहरा ही यार हो जाता है,
खूबियों से ही नही होती मोहब्बत सदा,
किसी की कमियों से भी कभी प्यार हो जाता है।


किसी की अच्छाई का इतना भी फायदा मत उठाओ, की वो बुरा बनने के लिये मजबूर बन जाये, बुरा हंमेशा वही बनता है जो अच्छा बनकर टूट चुका होता है।


परवाने को शमा पर जलकर
कुछ तो मिलता होगा
यूं ही मरने के लिए कोई
मोहब्बत नहीं करता...


गुलाम बने इस देश को आजाद तुमने कराया है
सुरक्षित जीवन देकर तुमने कर्ज अपना चुकाया है
दिल से तुमको नमन हैं करते
ये आजाद वतन जो दिलाया है


पत्नी के गुस्से से पति को लगता है डर, जब पत्नी कहती है मत मार नजरे इधर उधर थोड़ी बहुत शर्म तो कर।


कौन कहता है हम उसके बिना मर जायेंगे
हम तो दरिया है समंदर में उतर जायेंगे
वो तरस जायेंगे प्यार की एक बून्द के लिए
हम तो बादल है प्यार के किसी और पर बरस जायेंगे.


माना की तुम जीते हो ज़माने के लिये,
एक बार जी के तो देखो हमारे लिये,
दिल की क्या औकात आपके सामने,
हम तो जान भी दे देंगे आपको पाने के लिये!

 


जो अब तक ना खौला, वो खून नहीं पानी है,
जो देश के काम ना आये, वो बेकार जवानी है


लिखना था कि
खुश हैं तेरे बगैर भी यहां हम,
मगर कमबख्त...
आंसू हैं कि कलम से
पहले ही चल दिए।


मुझे खैरात में मिली ख़ुशियाँ अच्छी नहीं लगती, मैं अपने ग़मों में भी रहता हूँ नवाबो की तरह..।


सूखे पत्तो से प्यार कर लेंगे हम,
खुद पर फिर से ऐतबार कर लेंगे हम,
सिर्फ एक बार कह दो तुम मेरे हो सनम,
कसम से तेरा जिंदगी भर इंतज़ार कर लेंगे हम।


जानेमन तुम इतराते बहुत हो,
जाने मन तुम मुस्कुराते बहुत हो,
जी करता है आज तुम्हे दावत पर बुलाऊँ,
लेकिन जानेमन तुम खाते बहुत हो।


जिंदगी में कोई प्यार से प्यारा नही मिलता,
जिंदगी में कोई प्यार से प्यारा नही मिलता,
जो है पास आपके उसको सम्भाल कर रखना,
क्योंकि एक बार खोकर प्यार दोबारा नही मिलता।


रहते हैं आस-पास ही, लेकिन साथ नहीं होते….. कुछ लोग जलते हैं मुझसे, बस…..खाक नहीं होता..!!


भीड़ में खड़ा होना मकसद नहीं है मेरा बल्कि भीड़ जिसके लिए खड़ी है वह बनना है.. मुझे…!


कर दे नज़रे करम मुझ पर,
मैं तुझपे ऐतबार कर दूँ,
दीवाना हूँ तेरा ऐसा,
कि दीवानगी की हद को पर कर दूँ,


धीरे से आकर हमारे दिल में उतर जाते हो,
खुशबू की तरह मेरी सांसो में बिखर जाते हो,
अब तो तुम्हारे इश्क में ये हाल हो गया है,
सोतें जागते बस तुम ही तुम नजर आते हो।


उदास नहीं होना, क्योंकि मैं साथ हूँ,
सामने न सही पर आस-पास हूँ,
पल्को को बंद कर जब भी दिल में देखोगे,
मैं हर पल तुम्हारे साथ हूँ!


जब मैं दरबाजा खोलने गई और मैने दरबाजा खोला,
तब आपके चहरे पर हँसी, आंखों में आँसू और दिल मे बेबसी थी,
तो फिर आपने पहले क्यों नही बताया आपकी उंगली दरबाजे में फंसी थी।


जब ख्याल तेरा मेरे दिल में आता रहा,
तो बहुत देर तक मेरा दिल जोर से धड़कता रहा,
जो तेरा जिक्र कल मेरे घर में छिड़ गया,
तो बहुत देर तक मेरा घर महकता रहा।


हर लम्हा तेरी याद का पैगाम दे रहा है,
अब तो तेरा इश्क मेरी जान ले रहा है।


मुझे ना तन चाहिए, ना धन चाहिए
बस अमन से भरा यह वतन चाहिए
जब तक जिन्दा रहूं, इस मातृ-भूमि के लिए
और जब मरुँ तो तिरंगा कफ़न चाहिये
* जय-हिन्द *


वो पूँछतें हैं की हमे क्या हुआ है,
अब हम उनसे कैसे कह उनसे इश्क हुआ है।


आह को चाहिए एक उम्र असर होने तक, कौन जीता है तेरी ज़ुल्फ के सर होने तक


भाई बोलने का हक़ मैंने सिर्फ दोस्तों को दिया है..! वरना दुश्मन तो आज भी हमें बाप के नाम से पहचानते हैं..!!


इश्क करती हूँ तुझसे अपनी जिंदगी से ज्यादा,
मैं डरतीं हूँ मौत से नही तेरी जुदाई से ज्यादा,
चाहे तो हमे आज़मा कर देख किसी और से ज्यादा,
मेरी जिंदगी में कुछ नही तेरी आवाज़ से ज्यादा।


दीवाना हूँ तेरा मुझे इंकार तो नही,
कैसे मैं कह दूँ मुझे प्यार नही,
कुछ शरारत तो तेरी निगाहों की भी थी,
मैं अकेला इसका गुनहा गार तो नही।


भंवर से निकल कर एक किनारा मिला है, जीने को फिर एक सहारा मिला है, बहुत कश्मकश में थी
ये जिंदगी मेरी, अब इस जिंदगी में साथ तुम्हारा मिला है।


मैं मुल्क की हिफाजत करूँगा
ये मुल्क मेरी जान है
इसकी रक्षा के लिए
मेरा दिल और जां कुर्बान है


हमसे एक वादा करो हमे रुलाओगे नही,
हालात जो भी हों कभी हमे भुलाओगे नही,
अपनी आँखों में छुपा कर रखोगे हमको,
और फिर किसी को दिखाओगे नही।


हुकुमत वो ही करता है जिसका दिलो पर राज हो!! वरना यूँ तो गली के मुर्गो के सर पे भी ताज होता है!!


हर पर्वत को झुका नही सकते, हर दरिया को
सुखा नही सकते, तुम हमे भूल जाओ भले ही, लेकिन हम तुम्हे कभी भुला नही सकते।


चूल्हे नहीं जलाए कि बस्ती ही जल गई
कुछ रोज़ हो गए हैं अब उठता नहीं धुआं।
-गुलजार


मोहब्बत हाथो में पहनी चूडी की तरह होती है
खनकती है,
संवरती है,
और
आखिर टूट जाती है|


बड़े शौक से बनाया तुमने मेरे दिल मे अपना घर,

जब रहने की बारी आई तो तुमने ठिकाना बदल दिया।


जब देश में थी दिवाली, वो झेल रहे थे गोली
जब हम बैठे थे घरों में, वो खेल रहे थे होली
क्या लोग थे वो अभिमानी
है धन्य वो उनकी जवानी

जय हिन्द!!


सिर्फ एक सफ़ाह
पलटकर उसने,
बीती बातों की दुहाई दी है।
फिर वहीं लौट के जाना होगा,
यार ने कैसी
रिहाई दी है।
-गुलज़ार


हज़ार बार ली है तुमने तलाशी मेरे दिल की, बताओ कभी कुछ मिला है इसमें प्यार के सिवा..!


मूर्ख व्यक्ति से दोस्ती करने से बेहतर है कि आप अकेले ही खुश रहो।


तुझ पर एतवार करना हैं,
दिल जान से प्यार करना है,
मेरी ख्वाइश ज्यादा नही बस इतनी हैं,
तुझे हर लम्हे में अपना बना कर रखना है।


अभी सूरज नहीं डूबा जरा सी शाम होने दो;
मैं खुद लौट जाऊंगा मुझे नाकाम तो होने दो;
मुझे बदनाम करने का बहाना ढूंढ़ता है जमाना;
मैं खुद हो जाऊंगा बदनाम पहले मेरा नाम तो होने दो।


केवल सिंहासन का भाट नहीं हूँ मैं
विरुदावलियाँ वाली हाट नहीं हूँ मैं
मैं सूरज का बेटा तम के गीत नहीं गा सकता हूँ |
मैं पीड़ा की चीखों में संगीत नहीं ला सकता हूँ | |


आपकी परछाई हमारे दिल में है,
आपकी यादें हमारी आँखों में हैं,
आपको हम भुलाएं भी कैसे,
आपकी मोहब्बत हमारी सांसो में हैं।


सुकून की तलाश में हम दिल बेचने निकले थे खरीददार दर्द भी दे गया और दिल भी ले गया|


जब भी मैं तुम्हे देखता हूँ तो मैं आश्चर्य में पड़ जाता हूँ कि मेरी किस्मत इतनी अच्छी कैसे हो सकती है।


आज़ादी लाने वालों का तिरस्कार तड़पाता है
बलिदानी-गाथा पर थूका, बार-बार तड़पाता है
क्रांतिकारियों की बलिवेदी जिससे गौरव पाती है
आज़ादी में उस शेखर को भी गाली दी जाती है
राजमहल के अन्दर ऐरे- गैरे तनकर बैठे हैं
बुद्धिमान सब गाँधी जी के बन्दर बनकर बैठे हैं


जाम पर जाम पीने से क्या फायदा,
शाम को पीके सुबह को उतर जाएगी,
जरा दो घूट मेरे इश्क की पी कर तो देख,
तेरी सारी जिंदगी नशे में गुजर जायेगी।


हमने तो चारो तरफ पढ़ाई का माहौल बनाया है,
लेकिन फिर भी एग्जाम में अंडा ही आया है,
हम तो यूँ ही चल देते हैं बिना मुंह धोये ही एग्जाम में,
साले दोस्त कहते हैं ये तो बहुत पड़के आया है।


हमने तो चारो तरफ पढ़ाई का माहौल बनाया है,
लेकिन फिर भी एग्जाम में अंडा ही आया है,
हम तो यूँ ही चल देते हैं बिना मुंह धोये ही एग्जाम में,
साले दोस्त कहते हैं ये तो बहुत पड़के आया है।


अगर कभी उदास हो जाओ तो मेरे हँसी मांग लेना,
अगर कभी कोई गम आपके पास आये तो मेरी ख़ुशी मांग लेना,
खुदा आपको लम्बी उम्र दे जीने के लिए,
अगर एक पल भी कम पड़े तो मेरी
मेरी जिंदगी मांग लेना।


अगर मैं जानता हूँ कि प्यार क्या है, तो इसकी वज़ह सिर्फ तुम हो।


पति पत्नी में होती रहती है तकरार, बेचारे पति
को शादी करने का अफ़सोस होता है बार बार।


ये न सोचा कभी हमने
कि हमने दोस्तों’ से लिया क्या है
हमने तो खुद से पूछा सदा
कि हमने उनको दिया क्या है !


इस वतन के रखवाले हैं हम
शेर ए जिगर वाले हैं हम
मौत से हम नहीं डरते
मौत को बाँहों में पाले हैं हम
वन्दे मातरम…


हो सकता है हर दिन अच्छा ना हो, लेकिन हर दिने में कुछ न कुछ अच्छा होता है।


अधिकार मिलते नहीं लिए जाते हैं
आजाद हैं मगर गुलामी किये जाते हैं
वंदन करो उन सेनानियों को
जो मौत के आँचल में जिए जाते हैं


आखों की गहराई में तेरी
खो जाना चाहता हूँ
आज तुझे बाँहों में लेकर
सो जाना चाहता हूँ
तोड़ कर हदे मैं आज सारी
अपना तुझे बना लेना चाहता हूँ!


घर के दरवाजे बड़े करवा लिए है मैंने, कुछ दोस्तों का कद बड़ा हो गया चार पैसे कमाकर।


जब किसी रात आपको किसी की याद सताए,
और ठंडी हवा आपके बालों को सहलाये,
तो अपनी आँखे बन्द करके सो जाना,
और चुपके से हम आपके ख्वाबो में आ जायें।


सभी लड़कियों का सपना होता है कि बिना मोटे हुए खाते रहना।


देशभक्तों से ही देश की शान है
देशभक्तों से ही देश का मान है
हम उस देश के फूल हैं यारों
जिस देश का नाम हिंदुस्तान है


मेरी सांसो पर नाम बस तुम्हारा है…मैं अगर खुश हूं तो ये एहसान तुम्हारा है।


हकीकत कहो तो उन्हें ख्वाब लगता है,
शिकवा करो तो उन्हें मज़ाक लगता है,
कितनी शिद्दत से हम उन्हें याद करते हैं,
और एक वो हैं जिन्हें ये सब मजाक लगता है।


मेरी ख़ामोशी को कमजोरी ना समझ ऐ काफिर,
गुमनाम समन्दर ही खौफ लाता है!!


जिंदगी में कोई प्यार से प्यारा नही मिलता,
जिंदगी में कोई प्यार से प्यारा नही मिलता,
जो है पास आपके उसको सम्भाल कर रखना,
क्योंकि एक बार खोकर प्यार दोबारा नही मिलता।


मेरे देश तुझको नमन है मेरा,
जीऊं तो जुबां पर नाम हो तेरा
मरूं तो तिरंगा कफन हो मेरा


बचपन से ही शौक था अच्छा इंसान बनने का, लेकिन बचपन खत्म और शौक भी खत्म।


अजीब सी आदत और गज़ब की फितरत है मेरी, मोहब्बत हो या नफरत बहुत शिद्दत से करता हूँ।


तमु लौटकर आने की तकलीफ दोबारा मत करना,
हम एक बार की गई मोहब्बत दोबारा नहीं करते!


सफर वहीं तक जहाँ तक तुम हो,
नजर वहीं तक जहां तक तुम हो,
हज़ारों गुल देखें हैं गुलशन में हमने,
पर खुशबू वहीं तक जहां तक तुम हो।


ज़िन्दगीं में किसी का साथ काफ़ी है, हाथों में किसी का हाथ काफ़ी है, दूर हो या पास फ़र्क नहीं पड़ता प्यार का तो बस एहसास काफ़ी है।


जमींर हमसे बेचा ना गया,
वरना शाम तक अमीर हो जाते,
वाकिफ़ तो हम भी हैं, मशहूर होने के तौर तरीकों से,
पर ज़िद तो हमें अपने अंदाज से जीने की है।


तुझे देख कर ये जहाँ रंगीन नजर आता है,
तेरे बिना दिल को चैन कहां आता है,
तू ही है मेरे इस दिल की धड़कन,
तेरे बिना ये जहां बेकार नज़र आता है।