Posted by Sumitbabu , Posted 132 days ago

प्रथम विश्वयुद्ध में इंग्लैंड के शामिल होने का क्या कारण है

Answer:
Answer By : Sumitbabu



बिसवी सदी के पूर्व तक इंग्लैंड तटस्था की निति में विश्वास रखता था , परन्तु तटस्था की निति के कारन ब्रिटेन को अब संकट का सामान कारन पर रहा था | यूरोप में जर्मनी का उदय विश्वशक्ति के रूप में हो रहा था | अफ्रीका और एशिया के कई क्षेत्रो पर जर्मनी ब्रिटिश साम्राज्य पर संकट के बादल मेड़राने  लगे थे | आस्ट्रिया और इटली के साथ जर्मनी संधि हो जाने से यूरोप  संतुलन भंग हो गया था | तटस्थल की निति की छोड़कर दोस्ती का हाथ बढ़ाने इंग्लैंड भी चिंतित हो गया | 1904  में इंग्लैंड और फ़्रांस के बिच संधि हुई | जिसमे इंग्लैंड को मिस्रं में तथा फ़्रांस को मोरको में स्वतंत्र छोड़ दिया गया | आंग्ल फ़्रांस संधि से स्पष्ट हो जर्मनी ने जलसेना का विस्तार प्रारम्भ कर दिया | जर्मनी का विरोध करने के उद्देश्य से इंग्लैंड में सैनिक सुधार का काम प्रारम्भ हुआ | शास्त्रों की प्रतियोगिता सारे यूरोप में छाह गयी थी | 
केसर विलियम द्वितीय जर्मनी को विश्वशक्ति बनान चाहता था , अतः इंग्लैंड ने जर्मनी के दूसरे विरोध राष्ट्र रूस के साथ 1907 में संधि कर ली | अब फ़्रांस और इंग्लैंड अन्ताति नाम से जाना चाहता है | और जर्मनी आस्ट्रिया  त्रिदलीय गुट के नाम से जाना जाता  है | इसलिए यूरोप का महान राष्ट्र दो कैम्पो में बट गया | 
1908 में ऑस्ट्रिया ने बोस्निया और हर्जेगोविना को अपने सामाज्य में मिला लिया , तुर्की और सर्बिया को इससे बहुत दुःख हुआ , परन्तु वे दोनों विरोध करने  स्थिती में नहीं थे , अतः उस समय मामला दबकर रह गया | 
1911 त्रिपोली पर इटली की  विजय से विरोधियो को प्रोत्साहन मिला और 1912 में सर्विया , बलगेरिया मोर्टनिग्रो और यूनान ने तुर्की  के विरुद्ध एक संघ की स्थापना की | संघ  और तुर्की के बिच युद्ध हुआ , उसे बालकन युद्ध हुआ उसे बालकन युद्ध कहा जाता है | 
   बालकन युद्ध से  जर्मनी की आशा पर पानी फिर गया | वह पक्षिमी एशिया में प्रभाव बढ़ाने के लिए युद्ध पर उतर आया | दूसरी ओर बलगेरिया सर्विया से पराजय का बदला लेना चाहता था | तीसरी ओर आस्ट्रिया साविया की विस्तार योजना से दुर्ब  सर्विया स्लावजाति के लोगो को मिलाकर विशाल सर्विया का राज्य कायम करना चाहता था  सामाज्य निर्माण  अल्बानिया  था जिसका निर्माण ऑस्ट्रिया ने किया था | 
      प्रथम विश्व युद्ध के दौरान भारतीय सेना ने प्रथम विश्व युद्ध में यूरोपीय, भूमध्यसागरीय और मध्य पूर्व के युद्ध क्षेत्रों में डिविजनों  ब्रिगेडों का योगदान दिया था। लगभग  दस लाख भारतीय सैनिकों ने विदेशों में अपनी सेवाएं दी थीं जिनमें से 62,000 सैनिक मारे गए थे और अन्य 67,000 घायल हो गए थे। युद्ध के दौरान कुल मिलाकर 74,187 भारतीय सैनिकों की मौत हुई थी।

प्रथम विश्व युद्ध में भारतीय सेना ने जर्मन पूर्वी अफ्रीका  पर जर्मन साम्राज्य के विरुद्ध युद्ध किया।भारतीय डिवीजनों को मिस्र, गैलीपोली भी भेजा गया था और लगभग 700,000 सैनिकों ने तुर्क साम्राज्य के खिलाफ मेसोपोटामिया में अपनी सेवा दी थी। ] जब कुछ डिवीजनों को विदेश में भेजा गया था, अन्य को उत्तर पश्चिम सीमा की सुरक्षा के लिए और आंतरिक सुरक्षा तथा प्रशिक्षण कार्यों के लिए भारत में ही रहना पड़ा था।

  • युद्ध के बाद भारतीय उत्पादों का माँग बढ़ने का  कारन 

(1)प्रथम विश्वयुद्ध के दौरान ब्रिटेन में सैनिक आवशयक्ताओं के अनुरूप अधिक सामान बनाये जाने लगे | इसलिए ,मेनचेस्टर  बननेवाले वस्त्र के उत्पादन में गिरावट आई | इससे भारतीय बाजार के उधमियों को अपने बनाये गए वस्त्र की खपत के लिए देश में ही बहुत बड़ा बाजार मिल गया | फलतः सूती वस्त्रों का उत्पादन तेजी से बड़ा |
(2)विष्वयुद्ध के लंबा खींचने पर भारतीय उद्योगपाइयों ने भी सैनिक की आवस्य्यक्ता के लिए सामान बनाकर मुनाफा कामना आरम्भ कर दिया | सैनिकों की आवश्य्कतों की पूर्ति के लिए देशी कारखानों में भी सैनिक  वर्दी ,जुते ,जूट की बोरियां ,टेंट ,जीन ,इत्यादि बनाये  जाने लगे |
(3)युद्ध काल में कारखानों में उत्पादन बढ़ाने के अतिरिक्त अनेक नए कारखाने खोले गए | मजदूरों की संख्या में भी वृद्धि हुई | इनके कार्य करने की अवधि में भी बढ़ोतरी की गई | फलस्वरूप ,उत्पादन में तेजी से वृद्धि हुई |

Upvote(0)   Downvote   Comment   View(348)
Related Question
विजयनगर साम्रज्य की सांस्कृतिक उपलब्धियों की समीक्षा कीजिए

महात्मा गांधी को ऐसा क्यों लगता था की हिंदुस्तानी राष्ट्रीय भाषा होनी चाहिए

World me pahli bar train kab chala

मुग़ल शासक अकबर की उपलब्धियों का वर्णन कीजिए

1857 के विद्रोह में ग्वालियर के सिंधिया ने किसका साथ दिया

अकबर की धार्मिक नीति पर प्रकाश डालें

सिहू और कान्हू किस विद्रोह के प्रसिद्ध नेता था

दीन-ए-इलाही से आप क्या समझते है

सन 1857 के विद्रोह के कौन-कौन से कारण थे

1857 के क्रांति के स्वरूप की विवेचना करें

वर्तमान समय में प्रेस की भूमिका क्या है

सविनय अवज्ञा आंदोलन के कारणों एवं प्रभावों की विवेचना करें

भदौरा का नाम भदौरा गढ़ कैसे पड़ा और कब पड़ा

स्थायी बंदोबस्त कब कब लागू किया गया था

कार्बन -14 विधि से आप क्या समझते है

स्थायी बन्दोबस्त किसने किया था , तथा इसके क्या क्या प्रावधान था

क्या भारत का विभाजन करना अनिवार्य था

भारतीय संविधान सभा के गठन की प्रक्रिया का वर्णन कीजिए

अयोध्या मुद्दा क्या है

गौतम बुद्ध के जीवन एवं उनके उपदेशों तथा शिक्षाओं का वर्णन करें

Question you may like
भारत में जातिवाद पनपने के किन्हीं चार कारणों का वर्णन करें

Ural dharpan

ऋग्वेद में सम्पत्ति का प्रमुख रूप क्या है

भारत में लोकतंत्र कैसे सफल हो सकता है

DRS se aap kya samajhte hai,cricket main ye kaise lagu hote hai

पुनः उपयोग पुनः चक्रण से भी अच्छा तरीका क्या है

बहादुर के आने से लेखक के घर और परिवार के सदस्यों पर कैसा प्रभाव पड़ा

ग्रामीण अर्थव्यवस्ता क्या है |

वैधुत संयोजकता या आयनिक यौगिक के क्या क्या विशेषता है

प्रकाश विधुत प्रभाव के आइंस्टीन की क्या व्याख्या किया था

एक अर्थव्यवस्था के मुख्य कार्यों की विवेचना कीजिए

कोलंबिया अंतरिक्ष यान जिसमे भारतीय मूल की वैज्ञानिक कल्पना चावला की विस्फोट के दौरान मृत्यु हुई किस देश का था

प्रकाश के अपवर्तन क्या क्या है

आजकल के युद्ध में नागरिकों की क्या भूमिका होती है

किसी चालक तार के प्रतिरोधों की गणना कोण सूत्र द्वारा होता है

टिंडल प्रभाव किसे कहा जाता है

सत्ता के विकेन्द्रीकरण का क्या अर्थ है

साम्प्रदायिक सदभाव के लिए आप क्या करेंगे

उत्तल लेंस से आभासी प्रतिबिंब कब बनता है

विश्व मानक दिवस कब मनाया जाता है